Monday, March 9, 2009

क्या खोया क्या पाया

क्या खोया क्या पाया
ये सोचते हुए ही सारा वक़्त बिताया
ज़िंदगी मे राहें बिछड़ती सी रही
मंज़िल भी दूर निकलती सी गई

सोचा तूने एक दिन जी लूँगा ज़िंदगी
ओर हर वक़्त जीने क खवाब साजाता रहा
बस यू ही काल क मूह मे जाता रहा
दिल मे लेकर लाखो सपने ओर भूल कर उनको जो हें अपने
बस अकेला बदता गया आगे आँखो मे भरकर मोती इतने
आस्मा मे तारे हो जीतने......

ये कैसा जीना था तेरा जिसमे जीने क सिर्फ़ खवाब थे
बस ज़िंदगी मे पाने के सिर्फ़ अरमान थे
लकिन कुछ पाने क चकर मे कितना कुछ खोता चला गया तू
जब ये समझा तो जा कर पीछे उनको गला लगना चाहता था बस
उन अपनो को अपना बनाना न्ही बस प्यार से प्यार करना चाहता था बस

लकिन ज़िंदगी से तब दूर निकल गया था तू
अपनी मंज़िल पाने की लड़ाई मे सब कुछ हार गया था तू
मंज़िल भी थी तेरे कदमो मे ये कैसे थी वक़्त की साजिश
अपनो के लिए अपनी जान ही दी लेकिन
उनके साथ की कर भी ना पाया तू गुज़ारिश
फिर सोचा ये क्या खोया ओर क्या पाया.....
ज़िंदगी की इस दौड़ मे तू इतनी दूर अकेला ही चला आया
जहा कुछ न्ही था बस खवाब थे सिर्फ़ जीने के
जीने के ओर सिर्फ़ जीने के..............

35 comments:

  1. oh wow itna intense, tera ye side bhi hai mujhe nahi pata tha..!
    well its a mixture of both pessimist as well as a optimistic thought towards life, though sad part thoda zyada ho gaya lol but jokes apart i like the quest that u have described here...

    ReplyDelete
  2. नेहा जी!
    वो जो तनहाई में भी ख़ुद से घिरा रहता था
    मैंने उस शख़्स को कल बज़्म में तनहा देखा

    ReplyDelete
  3. हिंदी ब्लॉग की दुनिया में आपका स्वागत है... होली की शुभकामनाएं.
    अच्छी पंक्तिया है....
    क्या खोया क्या पाया
    ये सोचते हुए ही सारा वक़्त बिताया
    ज़िंदगी मे राहें बिछड़ती सी रही
    मंज़िल भी दूर निकलती सी गई

    ReplyDelete
  4. NICE ONE,good keep it up.

    --------------------------------"VISHAL"

    ReplyDelete
  5. होली की मुबारकबाद,पिछले कई दिनों से हम एक श्रंखला चला रहे हैं "रंग बरसे आप झूमे " आज उसके समापन अवसर पर हम आपको होली मनाने अपने ब्लॉग पर आमंत्रित करते हैं .अपनी अपनी डगर । उम्मीद है आप आकर रंगों का एहसास करेंगे और अपने विचारों से हमें अवगत कराएंगे .sarparast.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छे नेहा। आपको होली की हार्दिक शुभकामनाएं और ब्लॉग जगत में स्वागत।

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छा नेहा जी बढिया लिखा है आपने हिंदी ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है और आपको होली की ढेर सारी सुभकामनाएँ ............

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छे नेहा। आपको होली की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  9. bahut achcha lekh. blog jagat men swagat ke saath holi ki shubhkaamnayen.

    ReplyDelete
  10. good friend .very good but aap chote sentence me bade baat kahne ki koshis kijiye is me dam hai .par bhot jyada power nahi hai ...ye baate dil par na le mera yaa kisi kaa bhi apna ek nejariya hota hai ..wese hi mene kaha..ok..thnx

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  12. इस भीड़ से आगे निकलने की होड़ में
    जिंदगी पीछे छोड़ आया ...
    समझ न सका वक़्त के इस खेल में
    क्या खोया क्या पाया ....

    ticked the right pulse .. keep writing ..

    ReplyDelete
  13. इस भीड़ से आगे निकलने की होड़ में
    जिंदगी पीछे छोड़ आया ...
    समझ न सका वक़्त के इस खेल में
    क्या खोया क्या पाया ....

    ticked the right pulse .. keep writing ..

    ReplyDelete
  14. जिंदगी की गहरी समझ की आपकी बातें प्रभावित करती हैं। आशा है, भविष्‍य में और बेहतर कुछ पढने को मिलेगा। ब्‍लाग की दुनिया में पदार्पण करने के लिए और होली की हार्दिक शुभकामना।

    ReplyDelete
  15. आज आपका ब्लॉग देखा....... बहुत अच्छा लगा. मेरी कामना है की आपके शब्दों को नए अर्थ, नई ऊर्जा और विराट सामर्थ्य मिले जिससे वे जन सामान्य के सरोकारों की अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम बन सकें.....
    कभी समय निकाल कर मेरे ब्लॉग पर पधारें-

    http://www.hindi-nikash.blogspot.com

    सादर-
    आनंदकृष्ण, जबलपुर

    ReplyDelete
  16. अपनी टिप्पणी से पहले आपको होली की स्नेह भरी शुभकामनाए..,कविता का विषय रोचक है एवम
    आपका प्यास सराहनीय है ..,अभिनंदन ,मेरे विचार लिख रहा हूं ..,आपकी सोच से मेल खाते है..
    काल चक्र का खेल बड़ा ही विचित्र है, जिदगी के किसी मोड़ पर दामन खुशियों से भर देता है
    और किसी दुसरे मोड़ पर सब कुछ वापस ले लेता है .., एक हाथ से देती है दुनियाँ सो हाथों से ले लेती है .., यह खेल है कबसे जारी.. मक

    ReplyDelete
  17. नेहा जी, आपका हिन्दी ब्लॉग जगत में स्वागत है। अच्छा लिखने के लिए रचनारत रहें। होली की शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  18. आपकी रचना में एक विचार , एक चिंतन है भाव के साथ साथ जो कम ही रचनाओं में पाया जाता है !बधाई !
    लिखती रहें निरंतर !

    ReplyDelete
  19. होली की हार्दिक् शुभकामनाएं।
    सुंदर रचना के लिए बधाईयां।
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    मेरे द्वारा संपादित पत्रिका देखें
    www.zindagilive08.blogspot.com
    आर्ट के लि‌ए देखें
    www.chitrasansar.blogspot.com

    ReplyDelete
  20. होली की हार्दिक् शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  21. बढ़िया नेहा जी,
    स्वागत है आपका ब्लोगिंग में

    ReplyDelete
  22. Swagat hai,
    Kabhi yahan bhi aayen
    http://jabhi.blogspot.com

    ReplyDelete
  23. मैं अभी आपके ब्लाग पर हूं। आपका ब्लाग बहुत ही जानकारीपरक तथा सूचनाओं व सामग्री से भरा है। मैं तो एक हिंदी साहित्य की पत्रिका का अदना सा संपादक हूं।
    अखिलेश शुक्ल
    please visit us--
    http://katha-chakra.blogspot.com

    ReplyDelete
  24. Great writings
    keep it up
    very good poems

    ReplyDelete
  25. मेरी सुननी पड़ेगी ! वाह ! शायरी में भी दादागिरी ! चलिए, सुनेंगे। लेकिन उससे पहले आपको मेरी पढ़नी पड़ेगी।

    ReplyDelete
  26. ब्लाग संसार में आपका स्वागत है। लेखन में निरंतरता बनाये रखकर हिन्दी भाषा के विकास में अपना योगदान दें।
    नये रचनात्मक ब्लाग शब्दकार को shabdkar@gmail.com पर रचनायें भेज सहयोग करें।
    रायटोक्रेट कुमारेन्द्र

    ReplyDelete
  27. रमणीय प्रयास ..मेरे ब्लॉग में भी आप आमंत्रित हैं..

    ReplyDelete
  28. सितारो के आगे जहॉ और भी है,

    ये जिन्‍दगी तेरे इम्‍तहा और भी है,

    सब देखने का नजरिया है,आदमी के जाने के बाद लोग सोचते है इसने क्‍या खोया क्‍या पाया

    रचना बहुत अच्‍छी है

    ReplyDelete
  29. Really great poem .... you have tried to make a person make aware of the facts, realise what he is doing..... Wish everyone on this earth understands this and live happily.....

    Best Regards,

    Looking forward to some more poems......

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails