Thursday, April 29, 2010

समझ

आँखो में आँसू होना ही
क्या गम की निशानी हें
कही बार चेहरे की मुस्कुराहट
भी कहती एक कहानी हें

क्या रोना उनके लिए
जो आए सिर्फ़ गम देने हें
सीख कर उनसे भी एक पाठ ज़िंदगी का
उनके भी हम शुक्रगुज़ार हो चले हें

कभी धूप में कभी छाव् में
ज़िंदगी के हर बहाव में
बहना सीख चुके हैं
गमो क इस कशमश में कश्ती बना के
तेरना सीख चुके हैं

ज़िंदगी जीने की दी हो कितनी भी क़ीमत
मगर अब भी डगमगा कर
संभलने की हें हिम्मत

तो क्या हुआ अगर दिल टूटा हेँ
हमने भी मन को समझा लिया
ये गम तो झूठा हें
अगले मोड़ पर खुशी कर रही होगी इंतज़ार
हम भी अब आगे बढने को हैं बेकरार
ज़िन्दगी अब तू कुछ भी कर
हमने भी कर लिया हैं तुजसे प्यार

25 comments:

  1. Sach kaha hai....
    Jo log dukh dete hainm wo bhi sikhate to hain hi!
    Ummeed jagati hui rachna!
    Sadhuwaad!

    ReplyDelete
  2. आँखो में आँसू होना ही
    क्या गम की निशानी हें
    कही बार चेहरे की मुस्कुराहट
    भी कहती एक कहानी हें

    lajawab rachna hai... quite intellectual thought process...

    ReplyDelete
  3. neha ji,
    thank you sooooo much for visiting my blog and your precious comment...
    aate rahiyega...thanks a lot again.

    ReplyDelete
  4. by the way, let me ask you this, which company are you working with Neha.

    Send me an email at surender.chawla@gmail.com

    ReplyDelete
  5. well said...
    finaaly a poem with a happy note in it :D
    so now u r officially hired as the kavyatri in my ncert hindi edition!! :P

    ReplyDelete
  6. मेरे ब्लॉग पर आने के लिए और टिपण्णी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    बहुत ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    ReplyDelete
  7. vaah really touching with deep meaning
    keep it up..
    in fact all work is really very gud.. :)

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब !!!

    कभी अजनबी सी, कभी जानी पहचानी सी, जिंदगी रोज मिलती है क़तरा-क़तरा…
    http://qatraqatra.yatishjain.com/

    ReplyDelete
  9. i came to your blog for the first time...i thought--FULLY FALTU---title suggested sumthing really sueless...but its actually not!!its good and serious...i suggest the removal of the word --fully faltu---becoz its not.

    ReplyDelete
  10. hmmm...
    bahut khub likha aapne...
    i m expecting lots of better things will come...
    really...
    great....
    regards

    http://i555.blogspot.com/

    ReplyDelete
  11. कही बार चेहरे की मुस्कुराहट
    भी कहती एक कहानी हें

    luvd these lines very much...
    really very touching poem ...made me abt to cry ......

    ReplyDelete
  12. हर एक मुस्कुराहट मुस्कान नहीं होती...गाना याद आ गया मुझे.

    हर बात छुपी अनकही रही एक तरफा थी खामोश प्यास
    मैने न भरम अपना तोड़ा तुमने न खोली बंद मिठास...

    ये कविता याद आ गई बहुत दिन बाद....

    ReplyDelete
  13. bahut khoob neha ji ...aapke to jawaab nahi

    ReplyDelete
  14. Kya baat hai..very very well written poem..
    The ideology followed is fantastic..wish we all cud follow it :)

    ReplyDelete
  15. "आँखो में आँसू होना ही
    क्या गम की निशानी हें
    कही बार चेहरे की मुस्कुराहट
    भी कहती एक कहानी हें"

    Nice one.. I loved the deep meaning of it.

    ReplyDelete
  16. bas yun hi dubaara padhne chala aaya..
    meri nayi kavita ko aapka intzaar hai

    ReplyDelete
  17. subhanallah..kya tarif karu alfazon mein !!
    keep it up! :)

    ReplyDelete
  18. अगली पोस्ट डालें . नेहा जी ।

    ReplyDelete
  19. bahut hi pyari si kavita...
    lafzon ka acha use kiya hai...

    Meri Nayi Kavita par aapke Comments ka intzar rahega.....

    A Silent Silence : Naani ki sunaai wo kahani..

    Banned Area News : Beyonce bares all to promote fashion line

    ReplyDelete
  20. उम्दा, लिखते रहें.....।

    ReplyDelete
  21. Ur blog is awesome dude ...i'm also started writing blog hope you all write it ..plz have a look ......


    * http://rockingateet.blogspot.com

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails