Wednesday, August 12, 2009

क्या

क्यू सब कुछ बटोरने के बाद
कुछ ख़ालीपन सा लगा ज़िंदगी
किसी चमक के पीछे भागता रहा में ज़िंदगी
मेने जो भी पाया मुझे अपने पर नाज़ था
लकिन फिर भी क्यू खुशियो को मुझसे ऐतराज था

एक बड़ी खुशी के इंतेज़ार में
हर छोटी खुशी को रोंडता रहा
क्या ऐसा था की सब कुछ पाने के बाद
में कुछ चुप चाप ढ़ूढता रहा

कहा भूल आया था में अपनी मुस्कुराहट
न्ही सुन सका में ज़िंदगी की आहट
बस उलझता रहा इन बड़े बड़े सवालो में
समझ न्ही पाया की ज़िंदगी
तूने समझा दिया सब कुछ इन छोटी छोटी बातों में

6 comments:

  1. कहा भूल आया था में अपनी मुस्कुराहट
    न्ही सुन सका में ज़िंदगी की आहट
    बस उलझता रहा इन बड़े बड़े सवालो में
    समझ न्ही पाया की ज़िंदगी
    तूने समझा दिया सब कुछ इन छोटी छोटी बातों में

    ===================

    zindagi har chhoti chhoti baat mein bhi bahit kuch sikha jaati hai.

    bahut hi sahi kaha hai aapne

    -Sheena

    ReplyDelete
  2. bahut umda neha ji ...hamesha ki trah

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छे विचार है आपके...!लिखतीं रहें इंतजार रहेगा..

    ReplyDelete
  4. bahoot acha neha ji. aisa hi likhiya . aaki likhwat sada barkarar raha

    ReplyDelete
  5. आसुँओ से पलके भिगो लेता हूँ
    याद तेरी आये तो रो लेता हूँ
    सोचता हूँ की भुला दू तुझे
    मगर हर बार फैसला बदल देता हूँ bahut hi sundar rachna aage bhi inzar rahega.........

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails